Monday, 16 April 2018

कुच भि बोलो

खड़कसिंह के खड़कने से खड़कती हैं खिड़कियॉं, खिड़कियॉं खड़कने का बहाना चाहिये खड़कने का समय हो न हो खड़काना चाहिये कहीं  शांति अच्छी लगती है शांति तो सन्नाटा कहलाता है । सन्नाटा श्मशान में होता है ।  कृतिदेव यहां 

Wednesday, 31 January 2018

हवनकुंड kahani

goudqaM

      ^eEeh------lquks uk---- eEeh dgha pyks * nksuksa cPps fuHkZ; vkSj izsj.kk  ihNs iM+s gq, FksA ijh{kk ds ckn dh NqÍh FkhA i<+k i<+k dj idk fn;kA eEeh ---------------pyks u----------------------- ij eSa dqN fu”p; ugha dj ik jgh FkhA foeka”kq rks ges”kk dh rjg fufyZIr viuk U;wt pSuy yxk dj cSBs FksA bls can djks ,d feuV --------- f[kfl;k dj  eSus foeka”kq ds gkFk ls fjeksV Nhudj Vhoh can fd;k-----]^vc lquks cPps ihNs iM+s gSa A dgha pyus dks vc dqN rks cksyksA*
      pyks eSa D;k euk dj jgk gw¡ A dgrs foeak”kq dk gkFk  fjeksV dh vksj x;k rks fp<+dj cksyh ^^ugha fcYdqy ugha**- dqN rks crkvks dgk¡ pys dSls pys --* eSa dg rks jgk gw¡ dgha Hkh pyks tSls rqe pkgs -----* mcklh ys foeka”kq us nksuks gkFk Åij dj vaxM+kbZ yh tSls Vhoh ds can gksus ls ,d feuV gh eSa cskfj;r gksus yxh gSA fcydqy lgh dgk gS vxj ifr;ksa ls tYnh dksbX fu.kZ; djkuk gks rks fjeksV Nhu yks *eSa yxHkx ph[k gh iM+h eSa D;k pkgw¡ eq>s irk gS dgk¡ py ldrs gS fdruk le; gS----------rqEgkjs ikl ^ekyqe gS dksbZ u dksbZ ehfVax ;k t:jh dke fudy vk;sxk vkSj euk dj nsaxs**A ^esjss ikl rks le; gh le; gS-----gk¡ dy rks ugha dy th ,e vk jgs gS --------ijlksa lSVjMs Bhd ijlksa dk cuk yksA dgha Hkh pyksA
^uSuhrky fte dkcsZV pyrs gS * eq>s “ksj phrk tkuoj ns[kuk vPNk yxrk gSA vf/kdrj yksuyh IySusV “kkdZ Ogsy vkfn ds pSuy ns[krh jgrh gw¡A
      uSuhrky ---! -lsVjMs gkWQ Ms vkSj luMs cl ;gha [kkyh gS-* fjeksV-ykuk tjk pqukoh cgl tksj dh gSA etk vk jgk gS rqe cl nks fnu dk cuk yk*s* dgdj foeka”kq fQj Vhoh esa O;Lr gks x;s fuHkZ; vkSj izsj.kk dk psgjk mrj x;k]^ irk gS eEeh fiz;adk lkmFk vÝhdk gksdj vkbZ gSA dg jgh Fkh “ksj thi dh cksusV ij p<+ tkrs gSA dqN ugha dgrs -------*--izsj.kk dks ;g rks irk ugha Fkk  lkmFk vÝhdk fdruh nwj gS] dgk¡ gS muds fy;s lkmFk vÝhdk vkxjk ls fnYyh dh nwjh gSA fiz;adk ds firk MkDVj gSA lkmFk vÝhdk dkUÝsUl eas x;s Fks rc ifjokj Hkh ys x;s FksA^ lkmFk vÝhdk pyrs gSA * “ksj dks brus ikl ls ns[kus ek= ds ,glkl ls fuHkZ; jksekafpr gks mBkA

      ^vkids dkslZ esa ,l,lVh gS u- mlesa i<+k;k gSA u lkmFk vÝhdk dgk¡ gSA fQj*mls chp esa jksdrs fuHkZ; cksyk  क्रमश:

Wednesday, 24 January 2018

do you know

Do you know

Royalty has been noted for contributions to science . but Ferdinand it. Grand Duke of Tuscany ,, devised the first sealed thermometer in 1654. this was the forerunner of the common mercury thermometer .

when sir Walter Raleigh introduced tobacco into England in the early 1600s.King James 1 wrote a booklet arguing against its use. This early example of attemted govrnment regulation of smoking failed. The sotweed caught on immediately as an overwhelmingly popular habit .

The father of the great had a famous private guard company - the Potsdom Grenadies. He would bribe ,buy, close to seven feet height, to get them for Grenadiers;to made the giant men marry gaint women so he culd raise his own gaints 

Saturday, 6 January 2018

शायरी

दर्द जितना सहा जाये उतना ही सहना
किसी के दिल को बात लग जाये वो बात न कहना
 मिलते हैं तुम्हारे जैसे लोग बहुत कम
इसलिए हमें  कभी अलविदा ना कहना।

अगर आपको रात की तनहाइयों मैं कोई तंग करे
आपको करवटें बदलने को मजबूर करे
या कण मैं सरगोशी करे
तो कछुआ जलाओ मच्छर भगाओ

आप खूबसूरत हैं इतने कि हर शख्स की जुवान पर आप ही का तराना है
हम नाचीज तो कहाँ किसके काबिल और आपका तो खुदा भी दीवाना है 

Tuesday, 2 January 2018

ghar ujadne vale

फूल खिले थे घर घर कितने 
उजाड़ गई है क्यारी क्यारी 
अपना आंगन सजा न पाए 
गुलदानों  मैं सजाने की 

Monday, 18 December 2017

vyaapari chor nahin

आज  बीजेपी जीत तो गई क्योंकि  जनता  के पास विकल्प नहीं हैं  और स्वयं मोदीजी बहुत भले और विकास पुरुष कहना चाहिए हैं पर  यह जीत निराशजनक है हम मोदीजी को गद्दी पर देखना चाहते हैं क्योंकि  देश उनके हाथों मैं सुरक्षित है कम से कम पैसे के लिए बिकेगा नहीं प विकास भी  चाहते हैं पर कम  से कम जनता को अधिक परेशान करके नहीं  ा माध्यम वर्ग का व्यापारी  छोटा मोटा चोर है आम व्यपारी  बस रोटी ही अच्छे से खा पता है दिन रात करके इतना तो हुक बनता है  उसके ही दम पर सरकारी कर्मचारी मलाई खा रहे हैं उसे  ही सर्वाधिक परेशान किया जाता है
भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई तो लड़ी जा रही पर इसके मुख्या अपराधी कौन है अच्छी तरह सब जानते है  नोटबंदी  किस वजह से विफल हुई इसका मुख्या कारणक्या था कहने की आवश्यकता नहीं है इसीप्रकार  व्यापारी वर्ग को इतना परेशान किया जाता है की कहा नहीं जा सकता सही ईमानदार से भी वसूली के बिना कागज़ नहीं बढ़ाये जाते हैं बिना मेहनतवह मौज मरते हैं  सारा दिन मेहनत  करके व्यापारी अच्छे से रोटी खाने का हकदार तो है  फिर  लगाम व्यापारी के ऊपर ही क्यों लगाती है 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...