Saturday, 6 January 2018

शायरी

दर्द जितना सहा जाये उतना ही सहना
किसी के दिल को बात लग जाये वो बात न कहना
 मिलते हैं तुम्हारे जैसे लोग बहुत कम
इसलिए हमें  कभी अलविदा ना कहना।

अगर आपको रात की तनहाइयों मैं कोई तंग करे
आपको करवटें बदलने को मजबूर करे
या कण मैं सरगोशी करे
तो कछुआ जलाओ मच्छर भगाओ

आप खूबसूरत हैं इतने कि हर शख्स की जुवान पर आप ही का तराना है
हम नाचीज तो कहाँ किसके काबिल और आपका तो खुदा भी दीवाना है 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...