Monday, 16 April 2018

कुच भि बोलो

खड़कसिंह के खड़कने से खड़कती हैं खिड़कियॉं, खिड़कियॉं खड़कने का बहाना चाहिये खड़कने का समय हो न हो खड़काना चाहिये कहीं  शांति अच्छी लगती है शांति तो सन्नाटा कहलाता है । सन्नाटा श्मशान में होता है ।  कृतिदेव यहां 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...